संघर्ष संवाद
Sangharsh Samvad
.

पुलिसिया दमन

मध्यप्रदेश : वन भूमि से कब्जा हटाने आए दस्ते का विरोध कर रहे आदिवासियों पर पुलिस फायरिंग

9 जुलाई को मध्य प्रदेश के बुरहानपुर जिले के ग्राम सिवल में पुलिस और राजस्व अधिकारी सहित वन अमला पहुंच कर करीब 9 जेसीबी मशीनों से खेत उजाड़ना शुरू कर दिया. दो घंटे की गहमागहमी के बाद तकरीबन 60 हैक्टेयर भूमि पर गड्ढे कर दिए गए, लेकिन अचानक स्थानीय आदिवासी इस बात का विरोध करने पहुंच गए. आदिवासी एकता जिंदाबाद, आमु आखा एक छे, आवाज दो हम एक है, जंगल जमीन…
और पढ़े...

पत्थलगड़ी : खूंटी में हुई पुलिसिया बर्बरता के खिलाफ अल्बर्ट एक्का चौक पर…

रांची 28 जून 2018. संयुक्त आदिवासी सामाजिक संगठन एवं आदिवासी मानवाधिकार संगठन के बैनर तले गुरुवार शाम को रांची में…

एक तीर से दो निशाने : पत्थरगड़ी की कहानी खत्म और आदिवासियों की सैकड़ों एकड़ जमीन…

झारखंड के मुंडा दिसुम में पांच महिलाओं के साथ हुए गैंगरेप, तीन पुलिसकर्मियों का अगवा और एक निर्दोंष आदिवासी की…

योगी की ‘रासुका’ माने औक़ात में रहने की नसीहत

दमन के ख़िलाफ़ प्रतिरोध के मोर्चे पर सक्रिय ‘रिहाई मंच’ के प्रतिनिधि मंडल ने अभी हाल में बहराइच और बाराबंकी का दौरा किया. दोनों जगहें सांप्रदायिक हिंसा और बाद में पुलिसिया कार्रवाई से गुज़र चुकी हैं. इस दौरे में मैं भी शामिल था. इस दौरान जो जाना-समझा और महसूस किया, यह रिपोर्ट उसी का निचोड़ है; 11 जून को रिहाई मंच के प्रतिनिधि मंडल ने महादेवा के…
और पढ़े...

किसान आंदोलन विफल करने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार ने बोला किसानों पर हमला

छत्तीसगढ़ सरकार ने अपने राज्य में 19 सितंबर से किसानों पर एक तरह का हमला बोल रखा है। हर जगह किसान नेता और…

बस्तर : सुरक्षा बल के जवानों की बर्बरता, 16 आदिवासियों के घरों को किया आग के हवाले

छत्तीसगढ़ में सुरक्षा बलों द्वारा किए जा रहे उत्पीड़न की घटनाओं में लगातार वृद्धि हो रही है। बस्तर में जारी नक्सल…

जन विरोधी विकास निति का नतीजा बड़कागांव गोलीकांड

भारत सरकार के आकड़े को माने तो देश के पास अतिरिक्त 5000 मेगावाट बिजली है. तब भी पावर प्लांट क्यूँ ? अब जरूत आ गयी है विनाशकारी पॉवर प्लांटो को बायबाय करने कि और ऊर्जा के अन्य तरीको को खोजने की. समय आ गया है वीनासकारी जन विरोधी -जीवन विरोधी विकास नीति बदलने का. यदि हम अपने विकास नीति नहीं बदलते है तो पिछले दिनों जो बड़कागांव में…
और पढ़े...

जबरन भूमि अधिग्रहण के लिए बड़कागाँव, झारखंड के आदिवासियों पर पुलिसिया ज़ुल्म;…

शिखा राही भूमि अधिग्रहण के तमाम नाजायज़ तरीकों के लम्बे समय से हो रहे जन प्रतिरोध के क्रम में 31 मार्च…

यह रमन नहीं दमन है : छत्तीसगढ़ में पत्रकार, वकील, सामाजिक कार्यकर्ताओं पर बर्बर…

छत्तीसगढ़ में पत्रकार,वकील,सामाजिक कार्यकर्ताओं पर हमले : आदिवासियों के ऊपर हो रहे अन्याय,अत्याचार के खिलाफ जो…

करछना के किसानों पर पुलिसिया दमन के विरोध में जनअभियान तेज

करछना के किसानों पर पुलिसिया दमन के विरोध में जनविरोध प्रदर्शन 16 नवम्बर 2015 समय : 3 बजे से धरना स्थल : गांधी प्रतिमा, जीपीओ, लखनऊ, उत्तर प्रदेश साथियों, केंद्र सरकार ने भले ही भूमि अधिग्रहण अध्यादेश वापस ले लिया हो लेकिन हम सभी इस बात से भली भांति परिचित हैं कि उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में जबरन भूमि अधिग्रहण का काम लंबे समय से…
और पढ़े...