संघर्ष संवाद
Sangharsh Samvad

गुजरात : किसानों पर छोड़े आंसू गैस के गोले

गुजरात के भावनगर में 1 अप्रेल 2018  को पुलिस और किसानों के बीच आपसी झड़प हुई। किसान भावनगर जिले के एक गांव में प्रस्तावित कोयला संयंत्र के विरोध में प्रदर्शन कर रहे थे। इस झड़प में कई लोगों के घायल होने की सूचना है। किसानों ने आरोप लगाया कि पुलिस ने महिलाओं और बच्चों समेत प्रदर्शनकारियों के साथ हाथापाई की. घटना में अभी तक पांच लोगों के घायल होने की सूचना है। गौरतलब है कि गुजरात पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने लगभग दो दशक पहले लिग्नाइट संयंत्र स्थापित करने के लिए भावनगर में घोघा तालुक के 12 गांवों में लगभग 1,250 किसानों की 3,377 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया था।

अधिग्रहण होने से लेकर अब तक यह जमीन किसानों के पास ही थी और वह इसपर खेती कर रहे थे।अब किसान अधिग्रहित भूमि का कब्जा लेने के लिए कंपनी के प्रयास का विरोध कर रहे हैं। किसानों को काबू में करने के लिए पुलिस ने 40 के करीब आंसू गैस के गोले छोड़े. पुलिस की इस कार्रवाई की वजह से अभी तक 5 किसानों के घायल होने की खबर आ रही है।

भावनगर में सरकार ने थर्मल पावर स्टेशन के लिए जमीन अधिग्रहित की थी। पावर प्लांट के अधिकारी पुलिस के साथ जमीन पर कब्जा करने के लिए पहुंचे थे, जिसका विरोध करने पर पुलिस ने किसानों पर लाठीचार्ज कर दिया।
गुजरात के भावनगर में जमीन अधिग्रहण का विरोध कर रहे किसानों पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर करीब 40 आंसू गैस के गोले छोड़े, जिसमें 10 किसान घायल हो गए हैं। पुलिस ने 60 किसानों को हिरासत में भी लिया है। 
इसको भी देख सकते है