संघर्ष संवाद
Sangharsh Samvad
.

बांध विरोधी आंदोलन

मध्य प्रदेश : 25 गांवों में डूब प्रभावितों का क्रमिक अनशन चौथे दिन भी रहा जारी; सरकार ने नहीं ली अनशन की सुध

25 गांवों में 150 विस्थापितों के द्वारा चैथे दिन क्रमिक अनशन जारी पिछोडी, अवल्दा, कसरावद, राजघाट कुकरा,भीलखेडा बगुद, पिपलुद, सेगांव, धनोरा, निसरपुर, खापरखेडा, कडमाल, बाजरीखेडा, चिखल्दा, गोपालपुरा, गांगली, कवठी, बडा बडदा, धमरमपुरी, नावडाटौली इत्यादि गांवों में क्रमिक अनशन जारी आज भी सरदार सरोवर परियोजना से प्रभावित मध्यप्रदेश राज्य के 192 गांव व…
और पढ़े...

किसानों ने किया आर-पार की लड़ाई का ऐलान : बीना परियोजना रद्द करो नहीं तो विधान…

-तुलाराम अथ्या मध्य प्रदेश 5 अगस्त 2018 । बीना परियोजना प्रभावित 75 गांव के किसान 18 अगस्त को राहतगढ़ एवं 20 अगस्त…

नर्मदा बांध विस्थापित :192 गाँवों के कानूनी पुनर्वास की माँग को लेकर तीन जिलों में…

मध्य प्रदेश 05 अगस्त 2018। सरदार सरोवर परियोजना से प्रभावित मध्यप्रदेश राज्य के 192 गांव व एक नगर प्रभावित हो रहे…

नर्मदा बांध : सुप्रीम कोर्ट द्वारा पुनर्वास की तय सीमा के आदेश को एक साल पूरा; शिवराज सरकार नहीं दे पाई 35 हजार परिवारों को पुनर्वास

नर्मदा घाटी के निसरपुर डूब प्रभावित गाँव में नर्मदा बचाओ आंदोलन के बैनर तले आज जन सभा का आयोजन किया गया। ज्ञात रहे कि सुप्रीम कोर्ट ने 8 फरवरी 2017 को एक आदेश देते हुए कहा था कि सरदार सरोवर बांध के डूब प्रभावित गांवों को 31 जुलाई से पहले खाली कर पुनर्वास दिया जाए। सुप्रीम कोर्ट के आदेश को एक साल बीतने के बाद भी न तो डूब के गांव खाली हो पाए हैं और न…
और पढ़े...

मध्य प्रदेश जहाँ गाँधी की प्रतिमा तक को विस्थापित कर दिया गया

मध्य प्रदेश, बड़वानी 27 जुलाई 2018। एक साल पूर्व आज के दिन गाॅधी समाधि को उजाखडने प्रयास भाजपा सरकार द्वारा किया गया…

35 हजार परिवार बेघर, हजारों हाथ बेकार, शरणार्थी स्थल जैसे ‘पुनर्वास…

मध्य प्रदेश, बड़वानी 26 जुलाई 2018। पर्यावरण दिवस पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की यह घोषणा कि सरदार सरोवर के…

सरदार सरोवर बाँध : डूब प्रभावितों ने शुरू की गांवों में तैयारी बैठके; 31 जुलाई को आमसभा

24 जुलाई 2018, बड़वानी । नर्मदा बचाओ आंदोलन के द्वारा सरदार सरोवर बांध प्रभावित गाँवो चिखलदा, कडमल, निसरपुर इत्यादि गाँवो में आगे की रणनीति और प्रस्तावित 31 जुलाई 2018 के कार्यक्रम की चर्चा की गई है  की गई है। आज भी मध्यप्रदेश को 35 हजार से अधिक विस्थापितों का पुनर्वास करना बाकी है। आज भी हजारो परिवारो को घर प्लाट मिलना बाकी है, कई विस्थापितों के…
और पढ़े...

महिलाएं ही नर्मदा आंदोलन की धुरी : नर्मदा महिला सम्मेलन

सरदार सरोवर परियोजना से प्रभावित डूब प्रभावित गांवों की महिलाओं द्वारा एकत्रित होकर बड़वानी स्थित अर्जुन कारंज भवन…

महाराष्ट्र : नर्मदा यात्रा में उमड़ा आदिवासी महिलाओं तथा बच्चों का हुजूम

 21 जुलाई 2018 के रोज गोपालपुर से निकली संघर्ष, नवनिर्माण संवाद यात्रा गोपालपुर से निकलकर महाराष्ट्र के नन्दूरबार…

पिछले 32 सालों से नर्मदा बचाओ आंदोलन की अलख को जगाए हुए हैं देवराम कनेरा

मध्य प्रदेश के धार जिले में कुक्षी तहसील के खापरखेड़ा ग्राम के निवासी देवराम कनेरा पिछले 32 सालों से नर्मदा आंदोलन में जी जान से लगे हुए हैं। देवराम कनेरा को, जिन्हें लोग प्यार से दादा कहते हैं, आज भी पुनर्वास नहीं मिला है किंतु फिर भी वह पूरी शिद्दत के साथ संघर्ष में लगे हुए हैं। नौजवानों के प्रेरणा स्रोत दादा देवराम कनेरा की कहानी सुना रहे हैं…
और पढ़े...