संघर्ष संवाद
Sangharsh Samvad
.

बांध विरोधी आंदोलन

पिछले 32 सालों से नर्मदा बचाओ आंदोलन की अलख को जगाए हुए हैं देवराम कनेरा

मध्य प्रदेश के धार जिले में कुक्षी तहसील के खापरखेड़ा ग्राम के निवासी देवराम कनेरा पिछले 32 सालों से नर्मदा आंदोलन में जी जान से लगे हुए हैं। देवराम कनेरा को, जिन्हें लोग प्यार से दादा कहते हैं, आज भी पुनर्वास नहीं मिला है किंतु फिर भी वह पूरी शिद्दत के साथ संघर्ष में लगे हुए हैं। नौजवानों के प्रेरणा स्रोत दादा देवराम कनेरा की कहानी सुना रहे हैं…
और पढ़े...

बांध बनाया, गांव डुबोया : पानी कंपनियों के हिस्से और 35000 विस्थापित आज भी बेघर

मध्य प्रदेश के सरदार सरोवर बांध से करीबन 35000 प्रभावित परिवार आज भी डूब क्षेत्र में बसे हुए है| इनके अलावा…

बीना बांध के विरोध में किसान एकजूट, जल संसाधन मंत्री को सौंपा ज्ञापन

मध्यप्रदेश के सागर में किसान बीना बांध परियोजना के विरोध में लामबंद हो रहे है। सागर जिले के खेजरामाफी गांव में…

बीना बांध परियोजना : डूब प्रभावित किसानों ने राज्यपाल से मिलने का समय माँगा

मध्य प्रदेश, बेगमगंज 11 जुलाई 2018। बीना परियोजना प्रभावित किसानों की महापंचायत आज सुमेर में मुन्ना दाना की अध्यक्षता में आयोजित की गई। प्रभावित किसानों ने बताया की डूब में आने वाले गाँव सेमरी जलाशय से सिंचित हैं । तुल्सिपर जलाशय कीरतपुर जलाशय उमरखोह जलाशय तथा बीना नदी पर बने चंदामाऊ खिरिया परासरी, बहेरिया घाट, मानकी सलैया, महूना गुजर बीना नदी पर…
और पढ़े...

बीना बांध परियोजना : 62 गाँव को उजाड़ कर बीना रिफायनरी को पानी दिया जायेगा –…

मध्य प्रदेश - राहतगढ़/बेगमगंज, 10 जुलाई 2018। बीना परियोजना प्रभावित किसानों की महापंचायत ग्राम खेजरामाफ़ी में आयोजित…

मध्य प्रदेश : बीना बांध में 62 गांवों का डूबना तय मुख्यमंत्री ने रखी आधार शिला,…

मध्य प्रदेश के रायसेन सागर जिले की सीमा पर प्रस्तावित बीना बांध का 62 गाँवों के निवासी शुरू से ही विरोध कर रहे है…

उचित मुआवज़ा व पुनर्वास न मिलने पर नर्मदा बांध विस्थापितों ने किया भू अर्जन पुनर्वास कार्यालय का घेराव

मध्य प्रदेश, बड़वानी 2 जुलाई 2018। सरदार सरोवर परियोजना से बड़वानी ज़िले के 65 से अधिक गाँव डूब में है। आज भी इन गाँवों का संपूर्ण पुनर्वास कानूनी तरीके से नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के द्वारा नहीं किया गया है। नर्मदा बचाओ आंदोलन के बैनर तले आज भू अर्जन पुनर्वास कार्यालय बडवानी का घेराव किया। बडवानी जिले के अधिकारियो से चर्चा की गई है, चर्चा में इन…
और पढ़े...

प्रशासनिक खानापूर्ती पर जन एकता की जीत : जाखोल के ग्रामीणों ने रद्द करवाई जाखोल…

उत्तरकाशी जिला प्रशासन को 12 जून 2018 को आहूत जखोल साकरी परियोजना की जनसुनवाई रद्द करनी पड़ी। सैकड़ों ग्रामीणों ने…

नर्मदा बचाओ आंदोलन के कार्यकर्ताओं पर खनन माफिया का हमला

म.प्र. हाई कोर्ट , NGT के फैसले के बाद भी नर्मदा के तट पर अवैध उत्खनन जारी । नर्मदा मौत की कगार पर प्रशासन की…

नर्मदा किसानी बचाओ जंग का हुआ आगाज : 4 जून को भोपाल में ‘जन अदालत’

29 जून, 2018| बड़वानी, मध्य प्रदेश : आज नर्मदा किनारे से बड़वानी के झंडा चौक से निकली हैं दसोंगाड़ियाँ। किसान, मजदूर, मछुआरे, केवट, धनगर और कारीगर भी शामिल है। इस आदिवासी क्षेत्र के हम भाई, बहन और सभी एकजुटता से अपनी माँ नर्मदा को बचाना चाहते हैं। हमें पता है क्यों सूख रही है नर्मदा। हमें पता है कहाँ मोड़ रहे हैं नर्मदा का पानी। हमें पता है सरदार…
और पढ़े...