संघर्ष संवाद
Sangharsh Samvad
.

गुजरात

गुजरात : सभी जिला मुख्यालयों पर अल्पसंख्यक अधिकार अभियान, 18 सितम्बर 2017

18 सितम्बर 2017, गुजरात के सभी 33 ज़िला कलेक्टर को माइनॉरिटी कोआर्डिनेशन कमिटी के बैनर तले अल्पसंख्यक समुदाय एक साथ ज्ञापन देंगे। गुजरात में अल्पसंख्यक समुदाय अधिक वंचित वर्ग है, इनको साम्प्रदायिक भेदभाव का भी सामना करना पड़ता है। पेश माइनॉरिटी कोआर्डिनेशन कमिटी का आमंत्रण; गुजरात में अल्पसंख्यकों के विकास, अल्पसंख्यकों की रक्षा के…
और पढ़े...

गुजरात : नर्मदा नहर का पानी उद्योगों को और किसानों को पानी की मांग के बदले लाठी

14 फरवरी 2017 को गुजरात के वीरामगाम, बावला व सनन्द, आदि 32 गावों के करीब 5000 किसानों द्वारा अपनी नर्मदा…

ज़रूरी अलर्ट सरदार सरोवर बांध : विस्थापितों ने जाम की रोड़; 150 विस्थापित आदिवासी…

21 अगस्त 2016; गुजरात के 2500-3000 हजार सरदार सरोवर विस्थापितों ने आज बांध स्थल पर जाने वाली रोड़ को वाघोडिया…

जुल्म से मुक्ति के लिए अहमदाबाद से ऊना तक पदयात्रा : देशभर के बुद्धिजीवियों, लेखकों और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने किया समर्थन

दलितों के विरुद्ध बढ़ते अत्याचार तथा उत्पीड़न की घटनाओं को देखते हुए उना दलित अत्याचार लडत समिति द्वारा गुजरात के अहमदाबाद से ऊना तक 5 से 15 अगस्त 2016 तक एक दलित अस्मिता पदयात्रा का आयोजन किया जा रहा है। इस यात्रा का प्रस्थान अहमदाबाद में वाल्मीकि बालिका नीली झंडी दिखाकर करेगी। और ऊना में 15 अगस्त को पीड़ित और वाल्मीकि बालिकाएं राष्ट्रध्वज…
और पढ़े...

नर्मदा बांध की ऊंचाई अवैध ढंग से बढ़ी, गुजरात में 30 किमी अंदर आया समुद्र : मेधा…

सरदार सरोवर बांध को लेकर बरती जा रही अनियमितताएं एवं तानाशाही रवैया अब अपने चरम पर पहुंच चुका है। इस वर्ष अवैध…

36 साल बाद नर्मदा विस्थापितों को एक बार फिर उजाड़ने को तैयार गुजरात सरकार

सन 1980 के दौरान पहली बार नर्मदा बांध से विस्थापित मध्य प्रदेश के 19 गाँवों के आदिवासियों को…

नर्मदा बांध विस्थापित गुजरात के अनशनकारियों को देश भर के जन संघर्षों का समर्थन

गुजरात के बड़ोदरा शहर के केवड़िया कॉलोनी में नर्मदा बांध विस्थापित आदिवासी पिछले 6 दिनों से क्रमिक अनशन पर बैठे हैं। अनशनकारियों का कहना है कि पुनर्वास पूरा हुए बिना ही सरदार सरोवर का काम पूरा कर दिया गया है। अनशन पर बैठे इन आंदोलनकारियों का देश भर के जनसंघर्षों ने पूर्ण समर्थन किया है तथा आंदोलन के अंजाम तक पहुंचने तक…
और पढ़े...

जबरन भूमि अधिग्रहण, कार्पोरेट लूट और फासीवाद के खिलाफ निर्णायक जंग का एलान :देश भर…

देश में वैश्विक पूंजी के हमले की वजह से बढ़ते निरंकुश कॉर्पोरेटीकरण तथा महत्वपूर्ण क्षेत्रों में प्रत्यक्ष…

गुजरात मॉडल की सच्चाई : आंकड़ों के फर्जीवाड़े और पसंदीदा कार्पोरेटों की लूट का मॉडल

भूमि अधिकार आंदोलन के बैनर तले चल रहे तीन दिवसीय जनसंघर्षों के राष्ट्रीय सम्मेलन के दूसरे दिन 17 जुलाई…

जनसंघर्षों के राष्ट्रीय सम्मेलन के तीसरे और अंतिम दिन सुबह 10 बजे से खुला सत्र

भूमि अधिकार आंदोलन के बैनर तले अहमदाबाद के गुजरात विद्यापीठ में आयोजित हो रहे जनसंघर्षों के राष्ट्रीय सम्मेलन का कल तीसरा और अंतिम दिन है। सम्मेलन में आए विभिन्न जनसंघर्षों के प्रतिनिधियों ने जल-जंगल-जमीन और जनतंत्र की लूट के राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य तथा आंदोलनों की वस्तुगत स्थिति पर बात-चीत की। सम्मेलन में निकल कर आई जनसंघर्षों की चुनौतियों…
और पढ़े...