संघर्ष संवाद
Sangharsh Samvad
.

बिहार

चम्पारण सत्याग्रह : एक शताब्दी का सफर

जिन मूल्यों को लेकर महात्मा गांधी ने चम्पारण से भारत में अपने अभियान की शुरुआत की थी तथा किसानों की समस्याओं को पहली बार केंद्र में लाने का प्रयास किया था, उसे पूरी एक शताब्दी हो चुकी है। आज देश का किसान बदहाल है और लाखों किसान आत्महत्या कर चुके हैं और यह सिलसिला (प्रतिदिन) बदस्तूर जारी है। क्या इस वर्ष हम पुन: गांधी के नजरिए से किसान समस्या का…
और पढ़े...

लोकतंत्र की हत्यारी मोदी सरकार के विरोध में बिहार में प्रदर्शन

लोकतंत्र की हत्यारी मोदी सरकार मूर्दाबाद। जे एन यू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को रिहा करो। छात्रो पर हमला करने…

ईस्टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर और अमृतसर-दिल्ली-कोलकाता कॉरिडोर पर रणनीतिक बैठक;…

भूमि अधिग्रहण, खाद्य सुरक्षा और पर्यावरण के मुद्दे पर जमीन से जुड़े सभी कार्यकर्ताओं, शोधकर्ताओं, क़ानूनी विशेषज्ञ…

सत्याग्रहियों पर पुलिसिया दमन के विरोध में बिहार भवन पर प्रदर्शन

15 अप्रैल 2015 को दिल्ली समर्थक समूह द्वारा दिल्ली के बिहार भवन पर, 9 अप्रैल को बिहार विधानसभा के सामने सत्याग्रहियों पर हुए पुलिसिया दमन के विरोध में प्रदर्शन का किया गया. सनद रहे कि 9 अप्रैल को बिहार नव-निर्माण अभियान के आव्हान पर लगभग 400 महिला-पुरुष, भूमिहीन दलित और…
और पढ़े...

पटना में सत्याग्रहियों पर पुलिसिया दमन के विरोध में बिहार भवन पर 15 अप्रैल को…

गुजरी 9 अप्रैल को बिहार विधानसभा के सामने सत्याग्रहियों पर हुये पुलिसिया दमन के विरोध में दिल्ली के बिहार भवन पर…

बी0एस0एन0एल0 कर्मियों के द्वारा नई दिल्ली में ‘संसद मार्च’ 25 फरवरी को

बी0एस0एन0एल0 बचाओ-देश बचाओ’के समर्थन में कर्मी 1 करोड़ देश की जनता का हस्ताक्षर पीएम नरेन्द्र मोदी को सौंपा जाएगा…

विद्युतकर्मी संयुक्त संघर्ष मोर्चा,बिहार के बैनर तले अनिश्चितकालीन हड़ताल कल से

पटना। आश्वानसन की घुंटी पीने वाले विघुतकर्मी परेशान हैं। बिजली रानी को घर-घर तक पहुंचाने वाले सात सूत्री मांग को लेकर संघर्षरत हैं। 19 सितम्बर 2013 को सरकार,प्रबंधन और यूनियन के बीच में त्रिपक्षीय लिखित समझौता की गयी। इसके पश्चात समझौते को 17 फरवरी 2014 को पुनःनवीकृत भी की गयी।समझौते को 17 फरवरी 2015 तक लागू ही नहीं किया। थकहार कर विघुतकर्मी…
और पढ़े...

बिहार में निर्णायक संघर्ष का आगाज़: जहां गंगा सफाई न्याय और लोकतंत्र का मुद्दा है

गोमुख से लेकर गंगासागर तक 2525 किलोमीटर के नदीपथ के दोनों ओर स्थित जनपदों की जलदात्री एवं पवित्र जलवाली गंगा का जल…

कोईलवर : जहरीले कचरे के कारखाने के खिलाफ ग्रामीण जनता एकजुट

गुजारी 16 अक्टूबर 2014 को बिहार राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने अम्बिका शरण उच्च विद्यालय, जमालपुर में राम्के कंपनी द्वारा प्रस्तावित खतरनाक कचड़ा जलाने वाले कारखाने के पर्यावरणीय प्रभाव पर जन सुनवाई का आयोजन किया गया। ज्ञात रहे कि आरा जिले के कोईलवर क्षेत्र में सोन नदी के किनारे प्रस्तावित कारखाने में बिहार के 18 जिलों के 99 कारखानों के 50 हजार…
और पढ़े...