संघर्ष संवाद
Sangharsh Samvad
.

उड़ीसा

पुलिस के संरक्षण में अंगुल में जिंदल स्टील के सुरक्षा गार्ड तथा गुंडों द्वारा विस्थापितों पर नृशंस हमला

सरकारी दमन और कारपोरेट हिंसा का सामना करते हुए ओडिसा के तमाम जन संघर्ष अपने वन, जल, भूमि, खनिजों और अन्ततः अपने अस्तित्व की रक्षा के लिए संघर्षरत हैं। पोस्को एवं वेदांता कंपनी के साथ ही साथ जिंदल कंपनी के खिलाफ भी संघर्ष तीखा होता जा रहा है। जहां पोस्को प्रतिरोध संग्राम समिति के नेताओं अभय साहु, नारायण रेड्डी को जेलों में ठूंस दिया गया है,…
और पढ़े...

खेत में काम कर रहे आंदोलनकारी किसान को पुलिस ने गोली मारी

ओडिसा के जगतसिंहपुर जिले के धिंकिया गांव में 2 मार्च को ओडिसा पुलिस खेत में काम कर रहे एक किसान के पैर में गोली…

वेदान्त कंपनी और उड़ीसा सरकार के लिए संविधान का कोई मतलब नहीं।

आंदोलनकारियों ने गणतंत्र दिवस पर मनाया ‘काला दिवस’, थाने को मानव श्रृंखला बनाकर घेरा। भूमि की लूट के विरोधी…

शोषण-अन्याय, प्राकृतिक संसाधनों की लूट एवं भ्रष्टाचार के खिलाफ : 30 जिलों में जन सम्पर्क यात्रा का फैसला

उड़ीसा राज्य के विभिन्न जनसंघर्षों ने सूचना अधिकार अभियान की पहल पर गांधी जयंती के दिन 2 अक्टूबर 2011 से 4 नवंबर 2011 तक राज्य के 30 जिलों में शोषण-अन्याय-प्राकृतिक संसाधनों की लूट एवं भ्रष्टाचार के खिलाफ जन जागरण का निर्णय लिया है। इस जन जागारण यात्रा का उद्देष्य छात्रों-नवजवानों को जागरूक एवं एकजुट करना है जिससे वे राज्य में चल रहे जन संघर्षों…
और पढ़े...

पोस्को कम्पनी को दी गयी वनभूमि के इस्तेमाल की इजाजत

पोस्को को हरी झण्डी: मामला आर्थिक-प्रौद्योगिकी-सामरिक महत्व का या कुछ और ? फैसले का आधार देश में मौजूद कानून या सरकार द्वारा नियुक्त समितियों और विशेषज्ञों की संस्तुति तथा स्थानीय लोगों की मांग नहीं बल्कि राज्य सरकार के प्रति ‘निष्ठा एवं विश्वास’। ‘पोस्को जैसी परियेाजनायें आर्थिक-प्रौद्योगिकी तथा  सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण’ अतएव…
और पढ़े...

बाक्साईट खनन के खिलाफ उड़ीसा के सबसे ऊँचे पहाड़ की चोटी पर आदिवासियों का जमावड़ा

कोरापुट, 21 मार्च 2011 को लगभग 15000 आदिवासियों तथा परंपरागत वन निवासी समुदाय के लोगों ने देवमाली रेंज में बाक्साइट…

वेदांत विश्वविद्यालय एवं वेदांता कंपनी पर कसता न्यायालयों का शिकंजा

केन्द्र के वेदांत एलुमिनियम कंपनी के लांजीगढ़ एल्युमिनियम रिफाइनरी के ताकत को 1 एमटीपीए से 6 एमटीपीए तक बढ़ाने की अर्जी को खारिज करने के बाद वेदांत कंपनी ने उड़ीसा हाईकोर्ट में अपनी अर्जी दाखिल की। चीफ जस्टिस वी.गोपालगौड़ा एवं जस्टिस बी.एन. महापात्र की पीठ ने कंपनी के वकील व केंद्र के असिस्टेंट सोलिसिटर जनरल को सुनने के बाद इस अर्जी के ऊपर 1 मार्च…
और पढ़े...