संघर्ष संवाद
Sangharsh Samvad
.

उत्तराखंड में चल रहे संघर्षो की दास्तान

उत्तराखण्ड के पिंडर घाटी में पिछले दस सालों से पिंडर नदी पर बन रहे बांध के विरोध में चल रहे आंदोलन में 26 मार्च 2018 को एक बार फिर सुगबुगाहट दिखाई दी। देवाल कस्बे के विभिन्न गांवों से आए लोगों ने सरकार के सामने मजबूती से प्रदर्शन करते हुए मांग की कि पिंडर को अविरल बहने दिया जाए। हम यहां आपके साथ…
और पढ़े...

उत्तराखण्ड : गंगा-यमुना से महाकाली नदी पर बने बांधों पर चर्चा, लंबित समस्याओं से…

उत्तराखण्ड में 2013 के भूस्खलन से प्रभावित 350 गाँवो को राज्य सरकार अभी तक नहीं बसा पाई है. फिर …

श्री नगर बांध आपदा : सर्वोच्च न्यायालय ने दिया उत्तराखंड मुख्य सचिव को नोटिस

2013 में आई आपदा में अलकनंदा गंगा पर बने श्रीनगर बांध कंपनी “अलकनंदा हाइड्रो पावर कंपनी लिमिटेड…
उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले के झूलाघाट की पंचेश्वर नदी पर एक विशाल बांध बनाया जा रहा है जिसमें उत्तराखण्ड के तीन जिलों (अल्मोड़ा, चम्पावत व पिथौरागढ़) के 31,023 परिवार प्रभावित होंगे। कई हालिया समाचार रिपोर्टों के अनुसार, परियोजना प्रभावित परिवारों की भूमि को बाजार या सर्किल दाम का 4 गुना…
और पढ़े...

बांध नहीं अविरल बहती पिंडर नदी चाहिए उत्तराखंड की जनता को

उत्तराखंड के चमोली जिले में पिंडरगंगा नदी पर प्रस्तावित 252 मेगावाट के देवसारी बांध, के लिए बिना किसी तरह की…
उत्तराखण्ड में टिहरी बांध से उजड़े हजारों लोग 37 साल बाद आज भी अपने बुनियादी अधिकारों के लिए संघर्ष कर रहे हैं। अभी तक 415 स्थानीय विस्थापितों का भूमि आधारित पुनर्वास नहीं हो पाया है। विस्थापितों के लिए बने पुनर्वास स्थलों पर पानी, स्वास्थ्य, शिक्षा, यातायात जैसी सुविधायें भी सरकारें नहीं दे…
और पढ़े...

हिमालय दिवस : एशिया के सबसे बड़े बांध से हिमालय खतरे में, विरोध में संघर्ष का…

आज हिमालय दिवस है। अनेक कार्यक्रमों से सरकार हिमालय बचाने का संदेश दे रही है। लेकिन हक्कीकत इससे उलटी…

हिमालय दिवस : हिमालय की जनता की पुकार, पंचेश्वर बांध में हमें क्यों डुंबो रही है…

9 सितम्बर, हिमालय दिवस के मौके पर उत्तराखण्ड परिवर्तन पार्टी ने पंचेश्वर बांध को रद्द करने की मांग करते हुए कहा…
पिथौरागढ़ के जौलजिबी में शारदा या महाकाली नदी. (फोटो साभार: विकिपीडिया) उत्तराखंड में बन रहे पंचेश्वर बांध से 122 गांव डूब जाएंगे. आज 11 अगस्त को जन सुनवाई शुरू होनी है. जन सुनवाई के बारे में भी उन्हें ख़बर नहीं है जिनके घर डूबने हैं. अपनी बात कहने के लिए गांव के लोगों को जिला…
और पढ़े...