संघर्ष संवाद
Sangharsh Samvad
.

उत्तराखंड में चल रहे संघर्षो की दास्तान

पिथौरागढ़ के जौलजिबी में शारदा या महाकाली नदी. (फोटो साभार: विकिपीडिया) उत्तराखंड में बन रहे पंचेश्वर बांध से 122 गांव डूब जाएंगे. आज 11 अगस्त को जन सुनवाई शुरू होनी है. जन सुनवाई के बारे में भी उन्हें ख़बर नहीं है जिनके घर डूबने हैं. अपनी बात कहने के लिए गांव के लोगों को जिला…
और पढ़े...

उत्तराखण्ड : अवैध खनन से तबाह होती पिथौरागढ़ की नया देश पट्टी

हाल ही में हुए विधानसभा चुनावों में उतरी उतराखंड की हर राजनीतिक पार्टी ने राज्य के विकास के बड़े-बड़े दावे किए।…

मजदूरों के आगे झुका महिन्द्रा सीआईई कम्पनी प्रबंधन

रुद्रपुर, 7 अक्टूबर। उत्तराखण्ड के रुद्रपुर में लम्बे संघर्ष के बाद महिन्द्रा सीआईई के बर्खास्तगी के शिकार दो…
20 दिन की भूख हड़ताल के बाद 4 अक्टूबर 2016 को रुद्रपुर ( उत्तराखण्ड ) की प्रिकोल कंपनी के श्रमिकों को सफलता हासिल हुई. कम्पनी प्रबंधन 113 में से 56 श्रमिकों को 5 अक्तुबर और शेष 57 श्रमिकों को 19 अक्तुबर 2016 को काम पर लेने को मजबूर हुआ. श्रमिकों की भूख हडताल और बहादुरी ने सिडकुल…
और पढ़े...

प्रिकॉल मजदूरों का दमन : दिल्ली पहुंची प्रिकॉल मजदूरों की आवाज़, रेजिडेंट कमिश्नर…

नयी दिल्ली 7 सितम्बर 2016; दिल्ली के उत्तराखण्ड भवन पर इंकलाबी मजदूर केन्द्र, मजदूर एकता केन्द्र, श्रमिक…

उत्तराखण्ड : प्रिकॉल की महिला मजदूरों समेत अनशनकारियों के बर्बर दमन के विरोध में…

6 सितम्बर 2016 को उत्तराखण्ड के रुद्रपुर में महीने भर से निकाले गये मजदूरों की कार्यबहाली, न्यूनतम वेतन बढ़ाने…
2 सितम्बर को प्रिकोल, रुद्रपुर (उत्तराखण्ड) के 6 मजदूर अपनी मांगों को लेकर भूख हड़ताल पर बैठ गए. तीन दिन तक प्रशासन ने हड़तालियों की कोई सुध नहीं ली. चौथे दिन यानि 5 सितम्बर 2016 को एसडीएम समेत महिला पुलिस ने अनशन पर बैठी लड़कियों समेत 20 मजदूरों पर बर्बर लाठीचार्ज किया. लाठीचार्ज के दौरान…
और पढ़े...

जून 2013 की श्रीनगर आपदा के लिए जी.वी.के. कंपनी जिम्मेदार एनजीटी ने लगाया नौ…

उत्तराखण्ड में जून 2013 की त्रासदी के लिये राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) ने जी.वी.के. कंपनी जिसने श्रीनगर बांध…

ऋचा फैक्ट्री : मजदूरों की हड़ताल आंशिक सफलता के साथ समाप्त

उत्तराखण्ड के काशीपुर स्थित ऋचा फैक्ट्री के मजदूर 27 जून को अपनी 39 दिन की हड़ताल (जिसमें 4 दिन आमरण अनशन…
उत्तराखण्ड के पिथौरागढ़ से देवेन्द्र पंत की रिपोर्ट; हमारा गांव (जाखपंत ) पिछले 15 वर्षों से अवैध व बेतरतीव ढंग से हुए खनन की मार झेल रहा है। आज से 15 वर्ष पहले जब मेरे गांव में सड़क बनी तभी से यहां अवैध रूप से खनन का धंन्धा जोर पकड़ने लगा। तब ग्रामीण लोग भी खनन से भविष्य में होने वाले…
और पढ़े...