संघर्ष संवाद
Sangharsh Samvad
.

हरियाणा

प्रधानमंत्री जी: यह आधारशिला विनाश को न्यौता हैं !

करीब 2 करोड़ की आबादी वाले दिल्ली महानगर से महज 150 कि.मी. की दूरी पर किसी परमाणु संयंत्र (देश का सबसे बड़ा) की स्थापना की कल्पना ही सिरहन पैदा कर देती है । हरियाणा के गोरखपुर गांव में प्रस्तावित परमाणु ऊर्जा संयंत्र इस बात का उदाहरण है कि किस तरह हमारे नीति निर्माता स्थानीय आबादी को खतरे में डालकर और कृषि आधारित अर्थव्यवस्था को नुकसान…
और पढ़े...

फतेहाबाद को फुकुशिमा बनाने की जिद्द !

गुजरी 13 जनवरी को हरियाणा के फतेहाबाद में ग्रामीणों के विरोध के बावजूद प्रधानमंत्री द्वारा गोरखपुर में परमाणु…

कितना खतरनाक है परमाणु संयंत्र ?

जिस पदार्थ की राख या बचा हुआ हिस्सा रेडियोधर्मी होकर अगले ढाई लाख वर्षों तक जहरीला बना रहे, ऐसे पदार्थ के…

प्रधानमंत्री जी : यह परमाणु प्लांट का नहीं लोगों की मौत का उदघाटन है !

हरियाणा के फतेहाबाद जिले के गोरखपुर गाँव में परमाणु प्लांट के शिलान्यास के खिलाफ व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के आगमन के विरोध में आजादी बचाओ आन्दोलन के तत्वाधान में आस-पास के गांव के स्थानीय लोगों ने प्रदर्शन किया तथा प्रधानमंत्री वापस जाओ के नारे, पुरे क्षेत्र में दीवार लेखन किया गया । यशवीर आर्य ने प्रधानमंत्री मनमोंहन सिंह को…
और पढ़े...

प्रधानमंत्री हरियाणा में नहर के किनारे रखेंगे सबसे बड़े परमाणु संयंत्र की आधारशिला…

मनमोहन सिंह वापस जाओ! फतेहाबाद का विनाश बंद करो !! प्रधानमंत्री आज हरियाणा के फतेहाबाद जिले के गोरखपुर गाँव…

हरियाणा में मनमोहन सिंह का परमाणु दुस्साहस!

आज 11 जनवरी 2014 को हरियाणा के फतेहाबाद शहर के रेड लाईट, अम्बेडकर सर्किल पर परमाणु संयंत्र विरोधी मोर्चा के…

देश से विदा लेते प्रधानमंत्री का फतेहाबाद में परमाणु विनाश को न्यौता

मनमोहन सिंह वापस जाओ! फतेहाबाद का विनाश बंद करो !! जनहित से जुड़े हर मोर्चे पर असफल प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह अपने कार्यकाल के आख़िरी दिनों में फतेहाबाद के गोरखपुर में परमाणु संयंत्र की आधारशिला रखने 13 जनवरी 2014 को जा रहे हैं. महंगाई, भ्रष्टाचार और बेरोजगारी के साथ परमाणु संयंत्र उनकी सबसे बड़ी उपलब्धियां हैं ये उन्होंने हाल में खुद कहा है.…
और पढ़े...

मारुति सुजुकी दमन और प्रतिरोध का एक साल : 18 जुलाई को चलो मानेसर

गुजरी 24 जून को मारुती सुजुकी वर्कर्स युनियन की गुडगांव के हुडा सेक्टर 5 के ग्राउंड में वर्कर्स की आमसभा हुई…

मारुति में मजदूरों पर दमन: अंधेर नगरी और चमगादड़ों का तिमिर-राग

अंधेरे का तिलिस्म जिन चमगादड़ों ने खड़ा किया है, वे इस मामले में मारुति प्रबंधन की शक्ल में हैं, सरकारी पक्ष के वकील हैं, राज्य की कर्मचारी विरोधी सरकार के रूप में हैं, बिकी हुई पुलिस और खुपिफया तंत्रा के तौर पर हैं। अंधे हैं और अंधेरे में शिकार के आदी हैं। इस घटना का ताना-बाना भी इन्हीं का बुना हुआ है ताकि अंधेरे में ये रहें, अंधेरे में लोग…
और पढ़े...