संघर्ष संवाद
Sangharsh Samvad
.

झारखण्ड

झारखण्ड सरकार ने गोड्डा में 12 आदिवासियों के घरों पर चलाया बुलडोजर; देखें वीडियो

झारखण्ड के गोड्डा जिला के पोड़ैयाहाट प्रखंड के मालीगांव का अडानी द्वारा आदिवासियों के फसल रौंदने का मामला अभी ठंडा भी नहीं पड़ा था कि 19 सितम्बर 2018 को शासन ने पोड़ैयाहाट प्रखंड के बाघमारा पंचायत के केंदुआ गांव में आदिवासी घरों पर जेसीबी से कहर बरपाया । अंचलाधिकारी के निर्देश पर जेसीबी से तकरीबन 12 घरों को तोड़ दिया गया ।…
और पढ़े...

पलामू वर्ल्ड लाइफ कॉरिडोर : गांव भी खाली करवाएंगे और जनता को आंदोलन से रोकने के…

झारखंड के लातेहर जिले के अंबिकापुर जंगलों में प्रस्तावित पलामू व्याघ्र परियोजना, वर्ल्ड लाइफ कॉरिडोर बनाने के लिए…

झारखण्ड : अडानी के जबरन भूमि अधिग्रहण के खिलाफ रांची में प्रतिरोध मार्च, फूंका रघुवर का पुतला

झारखण्ड, रांची 7 सितम्बर 2018 को भारी बारिश के बीच में गोड्डा में किसानों की जबरन जमीन अधिग्रहण के खिलाफ विभिन्न आदिवासी-मूलवासी संगठनों द्वारा आक्रोश मार्च निकाला गया. आक्रोश मार्च के बाद राज्य सरकार का पुतला दहन भी किया गया. विरोध मार्च में रांची विश्वविद्यालय से फिरायालाल तक बड़ी संख्या में युवा शामिल थे. मार्च के दौरान रघुवर सरकार के खिलाफ…
और पढ़े...

झारखण्ड : खूंटी गैंगरेप से लेकर 20 सामाजिक कार्यकर्ताओं पर देशद्रोह के मुकदमे तक प्रशासन की हर साजिश को उजागर करती जाँच दल की रिपोर्ट

झारखण्ड के खुंटी में हुए गैंग रेप की घटना और उससे जुड़े मामले, घाघरा और आस-पास के गांवों में पुलिसिया दमन, खूंटी में चल रहे पत्थलगढ़ी की प्रक्रिया को माओवाद का नाम देकर प्रशासन द्वारा किया गया आदिवासियों का बर्बर दमन, टाईगर रिर्जव अभयारण्य में प्रशासन और सरकार द्वारा जबरन आदिवासियों का दमन और विस्थापन और झारखण्ड में विभिन्न लोगों पर हुए राजद्रोह के…
और पढ़े...

झारखंड सरकार द्वारा सामाजिक कार्यकर्ताओं पर लगाए फर्जी देशद्रोह के मुकदमे के खिलाफ…

नई दिल्ली, 7 जुलाई 2018 को झारखण्ड भवन, नई दिल्ली के समक्ष झारखण्ड के 20 साथियों के ऊपर फेसबुक में लिखने के कारण…

झारखण्ड : निराधार देशद्रोह के आरोपी बनाए गए सभी व्यक्तियों पर से तत्काल मुकदमा…

झारखण्ड के 20 बुद्धिजीवियों एवं जनांदोलनकारियों पर खूंटी गैंगरेप से जुड़े राष्ट्रद्रोह के झूठे आरोप लगाने का…

संविधान ने दिया पेसा कानून; पेसा कानून ने दिया पत्थरगढ़ी का प्रावधान फिर पत्थरगढ़ी पर लिखना देशद्रोह कैसे ?

-कनक कुमारी खूंटी, झारखण्ड, पत्थलगढ़ी केस में 20 और लोगों के खिलाफ एफआईआर किया गया है. इन पर लोगों को सरकार के खिलाफ उकसाने, हिंसा के लिए भड़काने आरोप है. कहा गया है कि इन्होंने पत्थलगढ़ी का समर्थन किया. लेख लिखे, फेसबुक पर लिखा. निष्कर्ष यह कि खूंटी के आदिवासियों ने इनके लिखे को पढ़ा और भड़क गये! एफआईआर में इन पर आइपीसी की धारा 121, 121 ए और 124 लगायी…
और पढ़े...